Saturday, September 05, 2009

दार्जलिंग में सरेआम प्यार के इकरार पर पाबन्दी

अलग राज्य की मांग कर रहे गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने प्यार का सरेआम इजहार करने पर प्रतिबन्ध लगा दी है।
वैसे जोड़े जो प्यार का इजहार करने या हनीमून मनाने सिलीगुड़ी या दार्जलिंग की खूबसूरत वादियों में आते हैं, उनके लिए बुरी खबर है। अब आगे से उन्हें प्यार का सरेआम इजहार करना महंगा पड़ सकता है। अलग राज्य की मांग कर रहे गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने प्यार का सरेआम इजहार करने पर प्रतिबन्ध लगा दी है। अब ऐसे प्रेमी युगल एक दूसरे का हाथ पकड़ कर भी नहीं घूम सकते है। यह नया तुगलकी फरमान दार्जिलिंग सहित कर्सियांग और कालिंपोंग पर भी लागू होगा। प्यार पर पहरा लगाने वाले फरमान का ऐलान गोजमुमो के युवा शाखा के अध्यक्ष रमेश आले ने किया है। उनका कहना है की उन्होंने यह कदम समाज की भलाई के लिए उठाया है। उनके इस फरमान का पालन गोजमुमो कार्यकर्ता पूरी सिद्दत से करेंगे।
यह प्रतिबंध दार्जलिंग में बुधवार से लागू हो गया। अपने नए आदेश को अमली जामा पहनाने के लिए उन्होंने हांथ में हांथ डाले घूम रहे एक जोड़े को पकड़ कर किया। जब जोड़े ने माफी मांगी तथा साथ में भविष्य में ऐसा ना करने की शर्त रखी तब जाकर उन्हें छोड़ा।
इस तुगलकी फरमान दार्जलिंग के स्थानीय लोगो ने विरोध किया है। उनका मानना है की इससे न केवल यहां का पर्यटन उद्योग प्रभावित होगा बल्कि हिल स्टेशन भी बदनाम होगा। दार्जिलिंग के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अखिलेश चतुर्वेदी ने कहा की उन्हें अब तक इस सम्बन्ध में छह शिकायतें मिल चुकी हैं। दार्जिलिंग के अलावा कर्सियांग और कालिंपोंग में भी इस तरह की घटनाएं हो चुकी हैं। पुलिस इन सभी मामलों की जांच करने के बाद उचित कार्रवाई करेगी।

2 comments:

नीरज गोस्वामी said...

प्रेमियों के लिए दुखद खबर..
नीरज

Maria Mcclain said...

nice post, i think u must try this website to increase traffic. have a nice day !!!

हर तारीख पर नज़र

हमेशा रहो समय के साथ

तारीखों में रहता है इतिहास