Tuesday, April 20, 2010

माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्व विद्यालय में पीछे के दरवाजे से बडाये जाते हैं नंबर

भोपाल. देश के प्रतिष्ठित माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्व विद्यालय में पत्रकारिता को कलंकित करने वाले कामको अंजाम दे रहे हैं वहां के चार बाबुइन लोगों ने पेसे लेकर रिवेल्युवेशन के समय क्षत्रों के नंबर बडाये हैंइस पुरेमामले में लगातार जाँच हुई लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकलापूरा मामला कल भारताज ब्लॉग पर एक्स्पोसे होगा

No comments:

हर तारीख पर नज़र

हमेशा रहो समय के साथ

तारीखों में रहता है इतिहास