Sunday, December 21, 2008

आख़िर झुकना पड़ा शिवराज को

आख़िर शिवराज सिंह को झुकना पड़ाजिन लोगो वह मंत्रिमंडल में नही चाहते थे उन्हें मजबूरन जगह देनी पड़ी। खासतोर से कैलाश विजयवर्गीय से उन्हें ज्यादा दिक्कत होगी। हो सकता है ये मेरी अपनी राय हो सकती है लेकिन इतना तो तय है की मोजुदा मंत्री मंडल बिना दवाब के नही बना। लेकिन इसमे शिवराज कर भी क्या सकते है। क्योंकि वे भले चुनाव जीता लाये हो लेकिन असली परीक्षा तो उन्हें अगले पाँच साल सरकार चलाकर देनी होगी जिसमे उनकी रह में सबसे बड़े रोड़ा बन सकते है कैलाश विजयवर्गीय। एक बात जो सबको चोंका रही है वो है सरताज सिंह को मंत्रिमंडल में न लेना। शायद इसका कारण सरताज सिंह का बड़ा हुआ कद है जो शायद शिवराज सिंह के कद को छोटा कर सकता है हालाँकि ये केवल आशंका है और इससे इतर शिवराज को जनता चाह रही है।
इस प्रकार रहा मंत्रिमंडल-
ुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को मंत्रिमंडल के गठन के करीब सात घंटे बाद देर रात मंत्रियों के विभागों का वितरण कर दिया। इसमें ‘बुलडोजर’ मंत्री के नाम से विख्यात बाबूलाल गौर को फिर से नगरीय प्रशासन विभाग की कमान सौंपी गई है.
-क्या मिला...
1- शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री -- सामान्य प्रशासन, नर्मदा घाटी विकास, विमानन अन्य विभाग जो किसी मंत्री को आवंटित नहीं हैं।
2- बाबूलाल गौर -- नगरीय प्रशासन एवं विकास, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास
3- राघवजी -- वित्त, योजना, आर्थिक और सांख्यिकी, बीस सूत्रीय क्रियान्वयन और वाणिज्यिक कर
4- जयंत मलैया -- जल संसाधन, आवास और पर्यावरण
5- कैलाश विजयवर्गीय -- वाणिज्य, उद्योग एवं रोजगार,सूचना प्रौद्योगिकी,विज्ञान और टेक्नालॉजी, सार्वजनिक उपक्रम, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण, ग्रामोद्योग, संसदीय कार्य
6- गोपाल भार्गव -- पंचायत और ग्रामीण विकास
7- अनूप मिश्रा -- लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, ऊर्जा, चिकित्सा शिक्षा
8- जगदीश देवड़ा -- परिवहन, जेल और गृह
9- लक्ष्मीकांत शर्मा --- संस्कृति,जनसंपर्क,धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व व जनशिकायत निवारण
10- नागेंद्र सिंह नागौद ------------ लोक निर्माण
11- अर्चना चिटनीस -------------- तकनीकी शिक्षा एवं प्रशिक्षण, उच्च शिक्षा, स्कूल शिक्षा
12- जगन्नाथ सिंह --------------- आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति कल्याण
13- डा. रामकृष्ण कुसमरिया -------- किसान कल्याण तथा कृषि विकास, पशुपालन, मछलीपालन, पिछड़ा वर्ग और अल्प संख्यक कल्याण
14- गौरीशंकर बिसेन -------------- लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, सहकारिता
15- तुकोजीराव पवार -------------- पर्यटन, खेल और युवक कल्याण
राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार ...
16- करण सिंह वर्मा ----- श्रम, राजस्व, पुनर्वास
17- पारस जैन -------- खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण
18- रंजना बघेल ------- महिला एवं बाल विकास, सामाजिक न्याय
19- राजेंद्र शुक्ला ------- वन, जैव विविधता/जैव प्रौद्योगिकी,खनिज साधन, विधि और विधायी कार्य
राज्यमंत्री ...
20- नारायण सिंह कुशवाह ----- परिवहन, जेल और गृह
21- कन्हैयालाल अग्रवाल ------ सामान्य प्रशासन, नर्मदा घाटी विकास, विमानन
22- हरिशंकर खटीक --------- आदिम जाति और अनुसूचित जाति कल्याण
23- देवीसिंह सैयाम --------- पंचायत और ग्रामीण विकास


6 comments:

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

ई-गुरु राजीव said...

हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

शुभकामनाएं !


ब्लॉग्स पण्डित - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

ई-गुरु राजीव said...

आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ 'ब्लॉग्स पण्डित' पर.
यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

प्रकाश बादल said...

आपको अपनी मंज़िल ज़रूर मिलेगी, बस इरादों को किसी मजबूरी के पास गिरवी न रख देना वरना मेरी तरह खाक ही छाननी पड़ेगी।

आपके लिए हम दुआ करेंगे कि आप एक बड़े पत्रकार बनो।

ब्लॉग जगत की दुनिया में आपका स्वागत

प्रदीप मानोरिया said...

आपका स्वागत है ब्लॉग जगत में ..... खूब लिखे सार्थक लिखें

Vidhu said...

is nanhe patrkaar ko badhai..lekh sahi nhai ..shivraaj ko vijayvargiy se diktten aasakti hain.

हर तारीख पर नज़र

हमेशा रहो समय के साथ

तारीखों में रहता है इतिहास