Tuesday, January 13, 2009

मरने से पहले sms भेज कर गहना को बचा लीजिये?

गहना को माँ बनना चाहिए या नही ये तो बालिका वधु के निदेशक तय करेंगे लेकिन sms के जरिये जो परिणाम सामने आ रहे हैं उससे तो लगता है की देश की जनता नही चाहती है की गहना माँ बने।
अफ़सोस तब होता है जब sms भेजने वाले के पड़ोस में कोई गहना माँ बन जाती है और हम sms करते हैं मगर इस बात का की एक नाबालिग माँ बन गई है और उसकी मौत हो गई है और उसका पैदा बच्चा भी ख़त्म हो गया है।
शायद पड़ोस में मरने वाली गहना की मौत पर हम आंसू भी बहा लेते होंगे लेकिन जिस गहना की ख़बर अख़बार में छपती है उसकी मौत पर आंसू बहाना तो दूर चर्चा करने की फुरसत हमारे पास नही होती है। अभी सीरियल ख़त्म हुआ तो पडोसियों में गहना के माँ बनने को लेकर बहस छिड़ गई लेकिन ये बहस पड़ोस में मरने वाली गहना की मौत पर छिडेगी ?

3 comments:

pintu said...

बिल्कुल सही कहा आपने!

सुजाता said...

वाकई , पड़ोस की गहनाओं की अनदेखी करते जाने और एस एम एस मे गहना को बचाने की यह विडम्बनापूर्ण मानसिकता सवाल उठाने लायक है। इस पर आपने लिखा ,बहुत आभार !

सुजाता said...

अंत मे प्रश्नचिह्न आना चाहिए शायद ।

हर तारीख पर नज़र

हमेशा रहो समय के साथ

तारीखों में रहता है इतिहास