Thursday, June 25, 2009

क्या न्यूयार्क सिनेमाघरों का सन्नाटा तोड़ेगी?

भोपाल। लंबे समय से सिनेमाघरों में पड़ा सन्नाटा शायद इस शुक्रवार को टूट जाए। क्योंकि 26 जून को यशराज बैनर की "न्यूयार्क" रिलीज़ हो रही है। इस फ़िल्म के निर्देशक कबीर खान हैं। कबीर खान की पिछली फ़िल्म "काबुल एक्सप्रेस" अफगानिस्तान और आतंकवाद पर आधारित थी। "न्यूयार्क" उसी का विस्तार लगता है। इस फ़िल्म की अवधारणा में न्यूयार्क और 9-11 की घटना है। अगर पिछले साल पाकिस्तान से आई "खुदा के लिए" से कोई समानता दिखे तो यह महज क्रिएटिव संयोग है। फिल्म के सारे कलाकारों ने किसी भी प्रकार की समानता से इन्कार किया है। निर्देशक कबीर खान तो बहुत पहले से कह ही रहे हैं। बहरहाल इस फ़िल्म से न केवल सिनेमाघरों को बल्कि फ़िल्म की टीम को भी ज्यादा उम्मीदें हैं। खासतौर से नील नितिन और जान अब्राहम के लिए फ़िल्म का सफल होना जरूरी है।
न्यूयार्क तीन दोस्तों की कहानी है। उमर (नील नितिन मुकेश), माया (कैटरीना कैफ) और सैमी (जान अब्राहम) न्यूयार्क में मिलते हैं। उनमें दोस्ती है। दोस्ती के साथ मौज-मस्ती भी चलती है। उमर वहां नया-नया पहुंचा है। वह न्यूयार्क शहर देख कर दंग है। तीनों दोस्त अमेरिका में एक नई दुनिया में जीते हैं। तीनों दोस्तों की निजी जिंदगी 9-11 की घटना से अचानक बदल जाती है। एक ऐसी घटना जिस पर उनका वश नहीं है, लेकिन जिसके आगे वे विवश हैं। जान अब्राहम, कैटरीना कैफ और नील नितिन मुकेश की न्यूयार्क समकालीन घटनाओं के परिप्रेक्ष्य में नए ढंग की कहानी है। खास कर कैटरीना पहली बार थोड़ी अलग भूमिका में दिखेंगी।

9 comments:

अमित said...

blogging ki duniya me swaagat hai aapaka. Achchha bog banaa hai. anyatha na len to ek sujhaav dun. back ground bahut dark ho gayaa hai jisase posts ko padhane me pareshaaniho rahi hai| ise kuchh light kar de
shubhakamanaon sahit
amit

gargi gupta said...

आप की रचना प्रशंसा के योग्य है . आशा है आप अपने विचारो से हिंदी जगत को बहुत आगे ले जायंगे
लिखते रहिये
चिटठा जगत मे आप का स्वागत है
गार्गी

दिगम्बर नासवा said...

bas theek thak hi hai picture

वन्दना अवस्थी दुबे said...

shubhkamnayen.

नारदमुनि said...

narayan narayan

islamicwebdunia said...

आपका ब्लॉग अच्छा लगा

Dev said...

Bahut sundar rachana..really its awesome...

Regards..

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

sandhyagupta said...

Achcha laga aapke blog par aakar.

हर तारीख पर नज़र

हमेशा रहो समय के साथ

तारीखों में रहता है इतिहास